Close

Jyoti Lahoti- The Birthday Girl

५ सप्टेंबर टीचर्स डे हमारी स्वीटेस्ट स्विटीका बड्डे

इसके बारे मे जितना लिखे उतना है कम

बस खुशनसीब समझते है खुद को
जो इसकी छाया मे रेह है हम

जहाँ जाती है बस वहा की हो जाती है
जादू कर लोगों को अपना बना लेती है
जो भी काम हाथ मे ले उसे बस जी लेती है
जब तक पुरा ना हो पीछा ना छोडती है!

अपने साथ लोगों को भी काम मे लगा देती है
बस उस काम को एक प्यारभरा खेल बना रखती है
जुडे सभी लोग उस खेल का भरपूर आनंद लेते है
उनके वो पल प्यार और उमंग से गुजरते है!

ये मोरनी की तरह नाचती भी है
कोयल की तरह मिठी गाती भी है
जब नाचे तो देखणेवालों के पैर थिरकने लगते है
जब गाये तो सुनने वालों के गले गाने लगते है!

खाना भी बनाये तो स्वीटीही बनाये
उसके सामने कणसेवाली सब्जी भी फिकी पड जाये
खानेवाला बस खाताही रेह जाये
उंगलीया चाट दोबारा खाणें की आस जताये!

बस एक कमी है इसमे ये सफाई की बहोत आदी है
जिंदगी के कई घंटे झाडू पोछे में जाया करती है
घर को जरा जरुरत से ज्यादा ही साफ रखती है
मेहमानो को घरके चिकनेपन पे ही जलन हो जाती है!

ऐसी ये ज्योती सोलापूर के सोनी खानदान की
ज्योती है आज सातारा के लाहोटी परिवार की
दिल पे राज करणेवाली रानी आशिष कुमार की
माँ एवं बडी माँ अनिष-अन्वेश एवं अन्नी की!

जनमदिन की ढेर सारी शुभकामनाये भाभी,
तुम जिओ हजारो साल, जिसमे पेहला ही दिन आये बार बार!

 

-D For Darshan

Add comment

Security code
Refresh

Loading...
Loading...